SrijanGatha

साहित्य, संस्कृति व भाषा का अन्तरराष्ट्रीय मंच


<< 1 2 >>

Garbh Gruh

मुझे आज यह खतरा उठाना ही पड़ेगा क्योंकि अगर आज नहीं तो फिर मैं कभी भी तुम्हारे सामने खड़े होने का साहस जुटा नहीं पाऊँगा और यह भी नहीं कह पाऊँगा कि मेरी बदकिस्मती ने मेरे साथ एक खतरनाक खेल खेला है। फिलहाल मैं ज्यूडिशियरी कस्टडी में एक विचाराधीन कैदी हूँ। हालाँकि अभी तक मेरे खिलाफ कोई चार्ज फ्रेम नहीं किया जा सका है। मैं सोच रहा हूँ इसके खिलाफ मुझे सुप्रीम कोर्ट में रिट-पीटिशन दाखिल करनी चाहिए कि किसी भी निर्दोष व्यक्ति को दोषी करार देना कानूनी जुर्म है
पढ़िए ...

देवेंद्र गोस्वामी की कविताएँ


फ्रांस में एक अतिदक्षिणपंथी नेता के बेटे ने की बड़ी हिंसा

इनका खतरा तुरंत तो नहीं दिखता है, लेकिन बचपन से ही लोगों पर इसका असर पडऩे लगता है। जिन परिवारों में मां-बाप सिगरेट-तम्बाखू, या शराब-जुएं की लत रखते हैं, उन परिवारों में बच्चों का भी इस खतरे में पडऩा अधिक होता है। जहां पर मां-बाप जाति या धर्म के आधार पर, विचारधारा या रंग के आधार पर नफरत की बातें करते हैं, वहां पर बच्चे तुरंत ही नफरत को अपना लेते हैं, और उसे आगे भी बढ़ाते चलते हैं
पढ़िए ...

प्रेम से परहेज करेंगे तो स्त्री का मन मरेगा, तन उभरेगा

रामनाथ पांडेय ने महेंदर मिसिर’ और पांडेय कपिल ने ‘फुलसुंघी’ नाम से उन पर बहुत पहले ही कालजयी उपन्यास लिखा था, उनके गीत कई दशक से उनके गीत आकाशवाणी से गूंजते रहे हैं लेकिन इधर कुछ सालों से दूसरी वजहों से चरचे में हैं
पढ़िए ...

राजनीतिक कीर्तन या निंदा से परे आत्ममंथन की जरूरत

जब 140 अक्षरों के ट्वीट पर विश्लेषण कर दिया जाता है, तो लोग अतिसरलीकरण के शिकार हो जाते हैं। और आज यही हो भी रहा है। मोदी की उत्तरप्रदेश में इस ऐतिहासिक जीत को जो लोग वोटिंग मशीन का घपला मानकर चल रहे हैं, वे लोग अपने आपको धोखा दे रहे हैं। अगर मोदी या किसी के भी हाथ में मशीनों से छेड़छाड़ की ताकत होती, तो पंजाब में अकाली-भाजपा आज फुटपाथ पर क्यों बैठे होते
पढ़िए ...

आलोचना, अज्ञान और अवसर

विश्वविद्यालयों के शिक्षकों का इस तरह की आलोचना में मुख्य योगदान है । पूरी तैयारी के साथ आलोचना लेखन का स्थान सरसरी तौर पर रचना का परिचय देने और सार संक्षेप बताने तक सीमित होने लगा । यह वैसा ही हुआ कि हाईवे पर जाने की बजाए हिंदी आलोचना ने आसान पगडंडियां ढूंढनी शुरू कर दी ताकि कठिन रास्ते से जाने का श्रम नहीं करना पड़े । आलोचकों और समीक्षकों ने भी हाल के दिनों में साहस के साथ लिखना छोड़ दिया है
पढ़िए ...

कांग्रेस का राहुलमुक्त होना आज उसके जिंदा बचने की पहली शर्त

यह चेहरा जनधारणा के मुताबिक बहुत ही मामूली समझ वाला चेहरा है। लोग राहुल गांधी को इतने बरसों की कांग्रेसी-मेहनत के बावजूद गंभीरता से नहीं ले पाए हैं, क्योंकि राहुल में लीडरशिप की खूबियां सिरे से ही नहीं उपज पाई हैं, नहीं पनप पाई हैं। राहुल गांधी की अगुवाई में 2019 या 2024 में भी कांग्रेस पार्टी कभी सत्ता तक पहुंच पाएगी, ऐसा कोई संकेत आज नहीं मिलता। कांग्रेस के इतिहास में इतनी कमजोर लीडरशिप कभी याद नहीं पड़ती, और जब देश की सत्ता पर कांग्रेस पार्टी थी
पढ़िए ...

महाकवि काशीनाथ पाण्डेय की जयंती

पटना। आई आई बी एम सभागार में डॉ.उत्तम सिंह की अध्यक्षता में महाकवि काशीनाथ पाण्डेय का जयंती समारोह सुसंपन्न हुआ। सर्वश्री श्रीराम तिवारी, विशुद्धानंद पाण्डेय, डॉ.शंकर, डॉ.सतीशराज पुष्करणा, डॉ.लक्ष्मी सिंह, कल्याणी सिंह, डॉ.पुष्पा जमुआर, डॉ.विनोद कुमार मंगलम, अरुण शाद्वल एवं डॉ. बी .एन. विश्वकर्मा ने समवेत रूप से दीपप्रज्जवलन कर कार्यक्रम की शुरुआत की
पढ़िए ...

Garbh Gruh

क्लासिक चित्रकला की शैली की तरफ रुख करते हुए पारंपरिक वेशभूषा और आदमियों के सटीक चेहरों के चित्र बनाना शुरु कर दिया था । उस समय उनकी मॉडेल हुआ करती थी, मारितेरेज बाल्टेयर। मगर अचानक विश्वयुद्ध की विभीषिका ने उनकी चित्रकला की शैली को बदल दिया था। धीरे-धीरे उनके मॉडल का चेहरा विकृत होता जा रहा था। विश्वयुद्ध के परवर्ती समय में अनुशासन हीनता, अत्याचार, निराशा, हताशा और दुख के भावों को पिकासो ने एक विकृत चेहरे के माध्यम से पेश करने का प्रयास किया था
पढ़िए ...

समय सजग कवि हैं विनय: रविभूषण

पटना । माॅल में कबूतर भारतीय भाषाओं में संभवतः अकेली पुस्तक होगी जिसकी सभी कविताएं बाजार केंद्रित हैं। संग्रह की 38 कविताओं में से 15 में माॅल की चर्चा है। माॅल आखिर है क्या और बाजार आखिर है क्या? बाजार पहले बाजार में था अब बाजार में नहीं है
पढ़िए ...

चुनावी साजिश में भागीदार मीडिया लोकतंत्र का स्तंभ कैसे हो सकता है

प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया से होते हुए कचरे की टोकरी में पहुंच गया, जबकि इसकी जांच रिपोर्ट में यह बात खुलकर सामने आई थी कि इन सारे बड़े-बड़े अखबारों ने भारी भ्रष्टाचार के तहत ऐसी रिपोर्ट छापी थीं। जब उस पूरे मामले में जांच के बाद भी कुछ नहीं हो पाया, तो अब चुनाव आयोग ने खुद पुलिस रिपोर्ट लिखवाना शुरू किया है
पढ़िए ...

बिहार दिवस पर गूंजेगी सुनिधि चौहान की आवाज

पटना । बिहार दिवस समारोह में बॉलीवुड की मशहूर गायिका सुनिधि चौहान पटना आएंगी। गांधी मैदान में 22 मार्च को उनकी सुरीली आवाज का लोग आनंद उठाएंगे। मुख्य मंच पर उनका कार्यक्रम होगा
पढ़िए ...

हिंदी लेखन के पंचमुखी दीपक

जिन उपन्यासों पर फिल्में बनीं वो हैं- वर्दी वाला गुंडा, सबसे बड़ा खिलाड़ी और इंटरनेशनल खिलाड़ी प्रमुख हैं । उन्नीस सौ पचासी में उनके उपन्यास ‘बहू मांगे इंसाफ’ पर शशिलाल नायर के निर्देशन में ‘बहू की आवाज’ के नाम से फिल्म बनी थी । उन्होंने कई फिल्मों की स्क्रिप्ट और सीरियल के लिए भी लेखन किया । वेद प्रकाश शर्मा हर साल दो तीन उपन्यास लिखते थे और हर उपन्यास की शुरुआती डेढ लाख प्रतियां छपती थीं
पढ़िए ...

सार्वजनिक जीवन के लोग तो दावतों पर खर्च सीमित रखने जितनी समझदारी दिखाएं...

बाद में आर्थिक उदारीकरण की आंधी में उस एक्ट के पन्ने कहां गए, यह भी लोगों को याद नहीं है। लेकिन आज इस पर चर्चा की फिर से जरूरत है क्योंकि देश में आर्थिक असमानता इतनी बढ़ रही है कि बड़े लोगों की देखा-देखी मध्यम वर्ग भी अपनी ताकत से बाहर का खर्च करने लगा है, और दिखावे में देश की उत्पादकता तो खत्म हो ही रही है
पढ़िए ...

शराबबंदी के वायदों और बातों को करते-करते राज्य सरकार बन गई शराब-कारोबारी!

इससे फर्क महज इतना पड़ेगा कि कमाई का एक बड़ा हिस्सा ठेकेदार की जेब में जाएगा, या कि सत्ता में बैठे हुए नेता-अफसर की जेब में जाएगा। सरकार की जायज और घोषित कमाई तो तकरीबन वैसी ही बनी रहेगी। इस मौके पर हमको इस बात को लेकर हैरानी होती है कि अगले विधानसभा चुनाव के दो बरस पहले छत्तीसगढ़ सरकार कारोबार का यह नया प्रयोग करने जा रही है, और उस वक्त कर रही है जब उससे शराबबंदी की उम्मीद की जाती थी। बिहार के मुख्यमंत्री ने यह बार-बार कहा है कि शराब से होने वाली कमाई से सरकार की जेब जितनी भरती है, उससे अधिक खाली हो जाती है
पढ़िए ...

<< 1 2 >>

Everyday, New Posts, Like, News, Poet, Story, Gazal, Song, novel, blog, Article, music, lyrics, books, review,conference, training etc. On srijangatha Magazine
जनमन
प्रफुल्ल कोलख्यान
प्रफुल्ल कोलख्यान
समाधान
जया केतकी
जया केतकी
बाअदब-बामुलाहिजा
फजल इमाम मलिक
फजल इमाम मलिक
धारिणी
विपिन चौधरी
विपिन चौधरी
सिनेमा के शिखर
प्रमोद कुमार पांडे
प्रमोद कुमार पांडे
आखर-अनंत
ओमप्रकाश कश्यप
ओमप्रकाश कश्यप
रोज़-रोज़
दयानंद पांडे
दयानंद पांडे

जाग मछिन्दर गोरख आया
बुद्धिनाथ मिश्र
बुद्धिनाथ मिश्र
विचारार्थ
बृजकिशोर कुठियाला
बृजकिशोर कुठियाला
स्याह सफ़ेद
सुनील कुमार
सुनील कुमार
समय-समय पर
अखिलेश शुक्ल
अखिलेश शुक्ल
ओडिया-माटी
दिनेश माली
दिनेश माली
नया नज़रिया
जगदीश्वर चतुर्वेदी
जगदीश्वर चतुर्वेदी
अतिक्रमण
संजय द्विवेदी
संजय द्विवेदी